Sir Isaac Newton Biography In Hindi | Law, Family, Date Of Birth & More

Sir Isaac Newton Biography In Hindi
Sir Isaac Newton Biography In Hindi: Image Source: Wikipedia

Sir Isaac Newton Biography In Hindi: कोई भी खोज एक बरी सोच के बिना नहीं की जा सकती है, ऐसा कहना है दुनिया को गुरुत्वाकर्षण का सिद्धांत देने वाले महान वैज्ञानिक Sir Isaac Newton का । जिन्होंने अपने सोच के दम पर इस विश्व को ऐसे वैज्ञानिक सिद्धांत दिए, जिसके बिना हम विज्ञानं के बारे में सोच भी नहीं सकते है ।

इसके अलावा Newton के गति के तीन नियम यानि Law Of Motion फिजिक्स में सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाता है। इन नियमो को एक साइकिल से ले कर हवाई जहाज बनाने तक अपनाया जाता है । इसके अलावा भी उन्होंने बोहत सारे खोज किये , लेकिन आज इस आर्टिकल में हम Newton के जीवन (Newton Biography In Hindi) के बारे में जानेंगे ।

Newton ने low Of Gravity यानि गुरुत्वाकर्षण बल की खोज की , उन्होए बताया की गुरुत्वाकर्षण नाम की एक शक्ति है जो हर चीज़ को अपने तरफ खींचती है और इसी बल के वजह से चन्द्रमा पृथ्वी का छाकर लगाती है और पृथ्वी सूर्य का ।

Netwon के जीवन के बारे में बताने से पहले मैं आपको उनके कुछ खोज के बारे में बता देता हूँ । (Sir Isaac Newton Biography In Hindi)

Sir Isaac Newton Biography In Hindi

Sir Isaac Newton Biography In Hindi: Sir Isaac Newton का जन्म 25 दिसंबर 1642 को एक बोहत ही गरीब परिवार में हुआ था । उन्हें पिता का प्यार नहीं मिल सका, क्युकी उनके पिता की मृत्यु उनके इस दुनिया में आने से 3 महीने पहले ही हो चूका था ।

See also  Bhuvan Bam (BB Ki Vines) Biography - Hindi | Height, Age, Girlfriend, Family, Income & More

Newton जन्म से ही बोहत ही कमजोर पैदा हुए थे और उन्हें बचा पाना लगभग नामुमकिन सा था, लेकिन ऊपर वाले ने Newton को महान कार्यों के लिए जीवित रखा और बोहत मुश्किलों के बाद उनकी जान बचायी जा सकी थी ।

Isaac Newton का नाम उनसके स्वर्गवासी पिता के नाम पर ही रखा गया था ।

Sir Isaac Newton के बचपन की कहानी

Sir Isaac Newton Biography In Hindi: जब Newton तीन साल के थे तब उनकी माँ ने दुबारा शादी कर ली , लेकिन Newton के सौतेले पिता को वह बिलकुल भी पसंद नहीं थे । इसी लिए उनके माँ ने उन्हें उनके दादा दादी के पास छोर दिया । और वह अपने दूसरे पति के साथ में रहने लगी ।

शुरुवाती दिनों में Newton ठीक से बोल भी नहीं पाते थे और साथ – ही – साथ बोहत जिद्दी और गुस्सैल स्वाभाव के थे , इसी लिए ऊके कोई दोस्त नहीं हुआ करते थे । और लोग उन्हें पागल भी बोलते थे । वो शुरू से हिन् चाँद तारों के बारे में सोचते रहते और अपने दादा दादी से उससे related questions किया करते थे , लेकिन उनके दादा – दादी उनके सवालो का जबाब सही ढंग से नहीं दे पाते थे क्युकी उस समय तक विज्ञानं में बोहत ही काम खोज हो पाया था ।

Sir Isaac Newton की पढ़ाई

Sir Isaac Newton Biography In Hindi: 12 साल की उम्र में उन्होंने स्कूल जाना स्टार्ट किया और उनकी शुरू की पढ़ाई The King’s School , Grantham में हुई । वो पढ़ने में बिलकुल भी अच्छा नहीं हुआ करते थे और उनकी पढ़ाई में कमजोर होने के वजह से स्कूल में बच्चे उनका मज़ाक उड़ाते।

इस बात को ले कर हर दिन उनका क्लास्मेट्स के साथ झगड़ा हुआ करता था । यहाँ तक की उनके झगड़े के वजह से उन्हें स्कूल से भी निकल दिया गया ।

See also  Ashish Chanchlani Biography In Hindi | Age, Girlfriend, Net Worth, Family & More

इसी बिच उनके दूसरे पिता की भी मृत्यु हो गयी और Newton फिर से अपनी माँ के पास आ गए । अब उनके घर में इनकम का कोई भी सोर्स नहीं बचा था और खर्चे चलना भी बोहत मुश्किल हो रहा था । इसलिए Newton की माँ चाहती थी की Newton अब खेती कर ले और अपना घर संभाले ।

लेकिन Newton का मन खेती में बिलकुल भी नहीं लगता था, इसलिए स्कूल की प्रिंसिपल से बात कर के Newton की माँ ने उन्हें फिर से स्कूल भेजना शुरू कर दिया । लेकिन इस बार Newton ने उस स्टूडेंट से बदला लेने की सोच ली , जिसकी वजह से वो स्कूल से निकाले गए थे और पूरी सिद्दत के साथ पढ़ाई करने लगे और जल्द ही स्कूल के toppers में गिने जाने लगे ।

उसके बाद 1661 में अपने एक अंकल के माध्यम से Newton को Trinity College , Cambridge में एडमिशन मिल गया । वहां वो अपने खर्च निकालने और कॉलेज का fees भरने के लिए वहां के आमिर स्टूडेंट्स के घर पे काम किया करते थे ।

इसी बिच 1664 में उन्हें अपने कलगे से स्कोलरशिप भी मिली, जिसकी वजह से वह अपनी पढाई और रेशार्च पे ज्यादा धयान दे सकते थे और फिर कॉलेज में ही 1665 में उन्होंने कुछ माथमेटिकल्स लौ का खोज किया जिसे बाद में calculus का नाम दिया गया ।

1665 में ही उन्होंने B.A. की पढ़ाई पूरी की और आगे की पढ़ाई के लिए M.A. में एडमिशन लेने की सोची, लेकिन एडमिशन के समय ही अचानक लंदन में प्लेग की बीमारी फेल गयी । जिससे शहर को कुछ महीनो के लिए पूरी तरह बंद कर दिया गया था और इसी लिए वो अपनी माँ के पास वापस आ गए और दो सालो तक अपने सिद्धांतो low of motion और low of gravity पे काम किया । देखते ही देखते अगले कुछ सालो के करी मेहनत के बाद उन्होंने सफलता पा ली और दुनिया को दिखा दिया की जिद्दी, गुस्सैल और पागल लड़का अगर चाह ले ना तो कुछ भी कर सकता है ।

See also  Sanjana Sanghi Biography - Hindi | Education, Career, Age, Boyfriend, Family

Sir Isaac Newton की मृत्यु

Sir Isaac Newton Biography In Hindi: अपने सिद्धांतो से दुनिया को बदलने के बाद 20 मार्च 1727 को लंदन शहर में Newton की मृत्यु हो गयी ।

दोस्तों Isaac Newton के महान सिद्धांतों के वजह से ही आज कल के नए खोज संभव हो पाते है । आज के वैज्ञानिक भी Newton के खोज को सबसे महत्वपूर्ण मानते है और उन्ही के सिद्धांतो पर काम करते है । (Sir Isaac Newton Biography In Hindi)

Disclaimer: This is an entertainment website only. All images and content placed here are for introducing purposes only. All images found on this site have been collected from various sources across the web and are believed to be in the “Public Domain”. If have any other issues then feel free to Contact Us.

(यह सिर्फ एक एंटरटेनमेंट वेबसाइट है। यहां रखी गई सभी छवियां और सामग्री केवल उद्देश्य का परिचय देने के लिए हैं। इस साइट पर मिली सभी छवियों को वेब के विभिन्न स्रोतों से एकत्र किया गया है और माना जाता है कि वे “सार्वजनिक डोमेन” में हैं। यदि कोई अन्य समस्या है तो बेझिझक हमसे संपर्क करें।)

Leave a comment